Saturday, February 20, 2016

CHALO DELHI! Demand Justice for Rohith: Smash Brahmanical Hindutva Fascism

- Joint Action Committee for Social Justice

Protest Rally 
Ambedkar Bhawan to Jantar Mantar
23rd February, 2016, 11 am 

It has been a month since the institutional murder of Rohith Vemula at the hands of BJP, ABVP and the HCU administration. Rohith was one of the five Dalit research scholars expelled from the hostel and faced social boycott for raising his voice against injustice perpetrated by the fascist and brahmanical forces in the country. Rohith’s death sparked off hundreds of protests across the country in which people demanded justice for Rohith and end to caste discrimination in all spheres of life. But, far from justice, those who abetted the death of Rohith have received promotions to honorary positions, shielded from judicial scrutiny and defended beyond logic while the identity of Rohith and his dalitness has been questioned by these very same forces. Meanwhile, the ruling government has taken it upon itself to divert the attention of the people towards another institution of higher education, JNU, by declaring it ‘anti-national’ on the basis of fabricated intelligence reports, sensationalized news coverage and blatant conspiracy by the RSS led BJP and ABVP. The nexus of the sangh girohs in its agenda to establish a fascist rule is unfolding before our eyes in our country. In this hostile climate, we need to unite, expose the brahmanical Hindutva agenda and fight this fascist assault on the people of this country. The Joint Action Committee for Social Justice has stood for the right of every voice like that of Rohith that this government has tried to silence. We have united to demand justice for hundreds of Rohith Vemulas! We appeal to all people to join the struggle in Delhi. We, the students, workers, cultural activists, intellectuals, will rally in memory of Rohith’s martyrdom, to fight for justice and freedom and to realize the country of our dreams. 

Our demands:
  • Enact “Rohith Act” against the caste discrimination in education spaces.
  • Punish the culprits (Smriti Irani, Bandaru Dattatrya, Appa Rao, Ramchandra Rao, Alok Pandey and Susheel Kumar). 
  • Remove Appa Rao from post of Vice Chancellor. 
  • Employ a family member of Rohith in the university. 
  • Pay a minimum compensation of 50 lakhs. 
  • Drop the false police cases against the five research scholars. - Appoint a special public prosecutor in the concerned case of Rohith.
  • Constitute a judicial inquiry (non-MHRD members) into all cases of discrimination and harassment of Dalit, Adivasi, OBC, Religious Minority students in all higher educational institutions. 
  • Implement Affirmative action policies in all higher education institutions, irrespective of the management of the colleges.
For the facebook event page click here

Photo: Bonojit Hussain

Thursday, February 18, 2016

[Statement] Modi Govt. Stifles Dissent and Democratic Values: The real aim of the politics of 'Desh-droh' and 'Gaddaar'

- New Socialist Initiative (NSI)

There is poison in the air. Loud abuses of 'deshdrohi', 'gaddar', 'maaro maaro' are rending the air. Angry men shouting these words have beaten up teachers and students of one of the best known universities in the country in the Patiala House Court of Delhi, barely three kilometers away from the seat of the national government. An elected MLA of the ruling party was part of the team of attackers. Women teachers of the university have publicly said that they were physically harassed by the mob, while the police looked the other way. This happened on 15th February. We can turn a day back. The Home Minister of the country announced to the world that a protest by a handful of students at the Jawaharlal Nehru University was the handiwork of India's 'enemy number one', Hafez Saeed of Lashkar-E-Taiba. The basis of his claim proved to be a fake tweet within hours. Three days before that, the elected president of JNU students union Mr Kanhaiya Kumar was arrested by Delhi police on charges of sedition, under the same clause of IPC which was used by the colonial rulers against Indian freedom fighters. Kanhaiya Kumar, belonging to a poor family from interiors of Bihar, is the first one from his family to attain university education. There is no evidence to date that he was part of the group that raised anti-India slogans on 12th February in his university. There are Supreme Court decisions which state that charges of sedition can only be levelled if someone is actively involved in enticing violence against the country, raising slogans is not seditious. Yet the police in Delhi did not hesitate in occupying the campus of eight thousand students, interrogating, harassing and threatening them, and arresting their elected union president on trumped up charges. Before that it was reported that a group of people, may be five, may be ten, raised anti-India slogans during a meeting held to oppose the way Afzal Guru, a Kashmiri convicted by Indian courts of involvement in the attack on Indian parliament, was hanged. Students of JNU organise and participate in scores of meetings every month. Their ripples are rarely felt outside their campus. But the meeting on Afzal Guru has generated unprecedented turmoil. This is not by accident, but by deliberate design. 

Actually, the people of India have to take a call. What disturbs their sense of being Indian more? A few minutes of anti-India slogans by an unknown group of people, in one corner of the city of Delhi, or the occupation by police of a sprawling university campus housing thousands of students and teachers, arrest of a bright young man from a poor family on trumped up charges of sedition, false claims by the home minister of the country to spread fear among people over terrorist activity, and a very public physical attack on teachers, students and journalists in a court of law by members of the ruling party. The first action by unknown people perhaps offends their sentiment of being Indian, the latter set of actions by the Government of India, police and the members of the ruling party, have physically hurt a number of citizens of India, are going to devastate future of many bright young men and women of the country, and have embarrassed the country with its home minister found making false public claims. Perhaps many Indians will feel that their sense of being Indian is hurt by both these sets of actions. But one set of action is almost ephemeral. TV channels looking for cheap sensationalism have played the same video clip again and again of some people shouting anti-India slogans. There are many such clips floating in the social media, some allegedly showing the members of the ABVP, the student wing attached to the ruling party, shouting anti-India slogans. Which is real, and which is someone's conspiracy, is not immediately known. The other set of actions leave little doubt about their intentions and effects. People have been really beaten up, arrested and terrorised. Which set of actions should draw immediate attention of Indians, and if they find themselves sufficiently outraged, their condemnation?

Wednesday, February 17, 2016

अकादमिक स्वतंत्रता तथा आम नागरिको के अधिकारो का हनन बंद हो

पहले वे यहूदिया के लिए आये ,
मै कुछ नही बोला
क्योकि मै यहूदी नही था।
फिर वे कम्युनिष्टो के लिए आये ,
मै कुछ नही बोला
क्योकि मै कम्युनिष्ट नही था।
फिर वे ट्रेड यूनियनो के लिए आये
मै फिर भी कुछ नही बोला
क्योकि मै कुछ नही बोला
फिर वे मेरे लिए आये
कोई नही बचा था जो मेरे लिए बोलता।

                              पास्टर निमोलर (जर्मन कवि)

(13 फरवरी 2016 )एन.एस.आई. उत्तर प्रदेश की गोरखपुर इकाई की एक बैठक कैम्प कार्यालय रमदत्तपुर में हुयी जिसमें  जे.एन.यू. छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार की कथित देशद्रोह के मामले में गिरफ्तारी की कड़ी आलोचना करते हुए उन्हे तुरन्त छोड़ने तथा अन्य छात्रो पर लगे देशद्रोह के मुकदमो के तुरत वापसी की मांग की गयी।

वक्ताओ ने एक स्वर में  इसे ,हैदराबाद विश्वविद्यालय में रोहित वेमुला को आत्महत्या पर मजबूर करने के लिए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद संघ परिवार की फाॅसीवादी कार्यवाही की अगली कड़ी बतलाते हुए इससे अकादमिक स्वतंत्रता तथा आम नागरिको के अधिकारो का हनन बतलाया गया। वक्ताओ ने कहा संघ परिवार शिक्षा संस्थानो पर कब्जा करके वहां पर अपनी विचारधारा का प्रचार प्रसार करके समाज में नफरत तथा अलगाववाद के बीज बोना चाहता है। वक्ताओ ने स्थानीय सांसद योगी आदित्यनाथ द्वारा जे.एन.यू. को देशद्रोहियों का अड्डा बताने की कठोर शब्दो में  निन्दा की। संगठन ने देश भर के सभी आजादी पसंद जनपक्षधर ताकतो से अनुरोध किया कि वे आपसी मतभेद भुलाकर इस फांसीवाद के खिलाफ एकजुट हो। हो सकता है कि कल आपकी बारी हो। बैठक में आजम अनवर , स्वदेश सिन्हा, आदित्य सिंह , अनिल मिश्रा, रंजना जोसेफ ,सीता रमण आदि ने अपने विचार रखे। 

Thursday, February 11, 2016

विचारगोष्ठी: ‘दलित उभार पर हिन्दुत्व का हमला’

‘दलित उभार पर हिन्दुत्व का हमला’

शनिवार, 13 फरवरी, 5 बजे शाम, गांधी शांति प्रतिष्ठान, दीन दयाल उपाध्याय मार्ग, नई दिल्ली 110002

आम्रपाली (तारा)बासुमतारी
 (प्रवक्ता, किरोड़ीमल कालेज /न्यू सोशालिस्ट इनिशिएटिव)

डा धरमवीर गांधी
 (सांसद, पटियाला, पंजाब)
प्रोफेसर विवेक कुमार
(प्रोफेसर, जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय)
सुभाष गाताडे 
 (लेखक, कार्यकर्ता, न्यू सोशालिस्ट इनिशिएटिव)
नकुल साहनी
 (फिल्मनिर्माता और एक्टिविस्ट)
पृष्ठभूमि: रोहित वेमुल्ला की आत्महत्या के लिए जिम्मेदार घटनाओं के सिलसिले से हम सभी वाकीफ हैं। हैद्राबाद सेन्टल युनिवर्सिटी का अम्बेडकर स्टुडेंटस एसोसिएशन, जिसका रोहिथ अगुआ सदस्य था, उसने मुजफफरनगर दंगों में हिन्दुत्ववादी संगठनों की विवादास्पद भूमिका को लेकर बनी डाक्युमेण्टरी पर चर्चा का आयोजन किया था। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की छात्र शाखा 'अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद' ने इस चर्चा का विरोध किया । अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और अम्बेडकर स्टुडेंटस एसोसिएशन के बीच टकराव हुआ , जिसे पुलिस में दर्ज शिकायत में 'अम्बेडकर स्टुडेंटस एसोसिएशन' द्वारा किए गए हमले के तौर पर प्रस्तुत किया गया । युनिविर्सिटी द्वारा की गयी पहली आन्तरिक जांच हमले की बात को अस्वीकार किया , लेकिन तब तक केन्द्र में सत्तासीन भाजपा और उसके स्थानीय प्रतिनिधि सक्रिय हुए। स्थानीय सांसद, जो केन्द्र सरकार में मंत्राी भी है, उन्होंने मानव संसाधन विकास मंत्राी को पत्र लिखा जिसमें 'अम्बेडकर स्टुडेंटस एसोसिएशन' पर ‘जातिवाद, अतिवाद और राष्ट्रविरोधी गतिविधियों’ के आरोप मढ़ दिए गए। इसीसे गोया संकेत पाकर मानव संसाधन मंत्रालय ने हैद्राबाद सेन्टल युनिवर्सिटी प्रशासन को कई पत्र लिखे। इन पत्रों के बाद आज्ञाकारी की तरह युनिवर्सिटी प्रशासन ने रातोंरात अपना रूख बदला , अम्बेडकर स्टुडेंटस एसोसिएशन के सक्रिय सदस्यों को छात्रावास, कैफेटेरिया और सामाजिक सम्वाद की अन्य जगहों से निलंबित किया । यूनिवर्सिटी प्रशासन के इस दिसम्बर की कड़ाके की ठंड में यह छात्र प्रशासनिक बिल्डिंग के बाहर तम्बू डाल कर अपना विरोध प्रदर्शन शुरू किये । विश्वविद्यालय प्रशासन ने इस विरोध पर अड़ियल रुख अख्तियार किया और छात्रों की मांग और उन्हें झेलनी पड़ रही दिक्कतों पर पुनर्विचार करने से इन्कार किया ; जैसा ठंडा रूख भारत की नौकरशाही आम वक्त़ अख्तियार करती है वही रूख यहां भी दिखाई दिया । इन सभी घटनाओं से उद्वेलित ने रोहिथ आत्महत्या की। 

यह घटना न केवल हैद्राबाद सेन्टल युनिवर्सिटी का संचालन करनेवाले संकीर्णमना नौकरशाहों के चिन्तन एवं व्यवहार पर बल्कि केन्द्र में सत्ता की बागडोर सम्भाले अहंकारी तथा कम जानकार हिन्दुत्ववादियों पर भी प्रश्नचिन्ह खड़ा कर देती है। सवाल जाति आधारित हिन्दु समाज के बुनियाद पर और उच्च शिक्षा में उसके संस्थागत प्रतिबिम्बन पर भी खड़े होते हैं। अगर हम रोहिथ द्वारा अपनी जिन्दगी की डोर अधबीच में ही तोड़ देने के प्रसंग को अलग रख कर सोचें तो यह दिखता है कि हैद्राबाद सेन्टल युनिवर्सिटी में जो कुछ चला है उस घटनाक्रम के साथ आई आई टी मद्रास में पिछले अप्रैल में जो कुछ हुआ, उसके साथ बहुत समानता है। वहां पर भी दलित-बहुजन विद्यार्थियों के संगठन ‘अम्बेडकर पेरियार स्टडी सर्कल’ की मान्यता को प्रशासन द्वारा समाप्त किया गया, जब केन्द्र सरकार की तरफ से उनके यहां एक बेनामी पत्र पहुंचा। याद रहे कि इस पत्र में ‘अम्बेडकर पेरियार स्टडी सर्कल’ पर परिसर में राष्ट्रविरोधी गतिविधियों मंे संलिप्तता के आरोप लगाए गए थे और इन्हीं आरोपों के चलते मानव संसाधन मंत्रालय अत्यधिक सक्रिय हो उठा था। भाजपा द्वारा दलित छात्र संगठनों के खिलाफ राज्य सत्ता के बढ़ते इस्तेमाल की बात इस वजह से भी पुष्ट होती है कि हालांकि हाल के समय में कई उच्च शिक्षा संस्थानों में दलित छात्रों द्वारा आत्महत्या की ख़बरें आयी हैं, यह पहली दफा था कि इसमें केन्द्र सरकार सीधे शामिल दिख रही थी। और जब हैद्राबाद सेन्टल युनिवर्सिटी और केन्द्रीय मंत्रियों के खिलाफ विरोध प्रदर्शनों ने राष्ट्रव्यापी शक्ल धारण की, तब हिन्दुत्ववादी नेता यह साबित करने में जुट गए कि दरअसल रोहिथ दलित नहीं था क्योंकि उसके पिता पिछड़े समुदाय से ताल्लुक रखते थे। आखिर किस वजह से हिन्दुत्ववादी संगठन दलित संगठनों से इस कदर आतंकित दिखते हैं और जागरूक दलित संगठनों पर इतनी आक्रामकता के साथ हमला करते दिख रहे हैं।

Wednesday, February 10, 2016

Public Meeting: Hindutva Assault on Dalit Assertions

For facebook event page click here

New socialist Initiative (NSI)

invites you to a public meeting on 

Hindutva Assault on Dalit Assertions

Amrapali Basumatary (Kirori Mal College / NSI)


Prof. Vivek Kumar (JNU)
Dr. Dharamvir Gandhi (M.P, Patiala, Punjab)
Subhash Gatade (Activist & Author / NSI)

Nakul Sawhney (Activist & Filmmaker)

Gandhi Peace foundation, near ITO. 5 pm, 13th February

Background Note: The important facts about the sequence of events leading to suicide by Rohith Vemula are well known. Ambedkar Students Association at Hyderabad Central University, of which Rohith was a leading member, organises a discussion against ban on a documentary critical of the role of Hindutva organisations in Muzaffarnagar riots. ABVP, the student wing of RSS, opposes the discussion. A confrontation takes place between ABVP and ASA, which is given the colour of physical assault in police complaint against ASA. The first internal inquiry at HCU does not endorse the claim of physical assault, but by then the wheels of state power wielded by the BJP at center also start moving. The local MP, who is also a minister in central government, writes a letter to the HRD minister, accusing ASA of 'casteism, extremism and anti national activities'. The HRD ministry unleashes a barrage of letters to the HCU administration. The pliant university administration does volteface, suspends active members of ASA from hostels, cafeteria and other places of social interaction. Students start a protest staying in tents outside administrative building in biting Deccani cold. University administration adopts the classic stonewalling tactic against the protest; no consideration of students' demands and hardships; a cold and calculated brutal in-difference typical of Indian bureaucracy. Rohith commits suicide, leaving behind incisive question marks over not only the petty bureaucrats running the HCU, and arrogant and ill informed Hindutva zealots running the central government, but on the very foundations of caste based Hindu society, and its institutionalised manifestation in higher education. Except the tragic and decisive step taken by Rohith, the sequence of events has an uncanny similarity to events at Madras IIT in April last year. There too a Dalit based organisation, Ambedakar Periyar Study Circle was derecognised by the administration after an anonymous letter to the central government, accusing APSC of anti-national activities on campus, had become the tool for hyper activism of the HRD ministry. The use of state power by the BJP against Dalit student organisations is also underlined by the fact that even while a number of Dalit students in institutions of higher learning have committed suicide in the recent past, Rohith's suicide is the first one in which Central government is directly involved. And now, when protests against the HCU and the central Govt ministers are taking the form of a national movement, Hindutva leaders are going to town with claims that Rohith was actually not a Dalit, because his father belonged to a backward community. Why are Hindutva forces so scared of, and hence are attacking enlightened Dalit organisations with such vicious ferocity? 

The electoral victory of Mr Narendra Modi has emboldened Hindutva groups, and all forms of aggression, from use of state agencies, naked street power to targeted violence have been used against RSS's ideological and political adversaries. Minorities have been attacked through the politics of ghar vapisi and beef ban, false proceedings have been started against activists who have stood against Hindutva's communal violence, anyone criticising the jingoism and violence of Hindutva functionaries is labeled anti-national. Hindutva organisations are on an all out attack against all communities, organisations and ideologies standing in their path to turn India into a Hindu Rashtra. However, it is of utmost importance to recognise the specific bases of their attacks on enlightened Dalit groups, because nothing else exposes their moral bankruptcy, diabolical plans and their soft underbelly as clearly as these attacks. 

Saturday, February 6, 2016

कूड़ा- पूंजीवाद की अंधेरी गुफा

-स्वदेश कुमार सिन्हा

कूड़े को शायद दुनिया की सबसे गन्दी वस्तु माना जाता है, परन्तु पूँजीवाद की यह विशेषता है कि , वह हर वस्तु को लाभ-हानि के गणित में बदल देता है , कूड़ा भी इसी तरह का एक उत्पाद है। अमेरिकी हास्य अभिनेता ’’जार्ज कार्लिन’’ ने लिखा था ’पूरी जिन्दगी का मकसद अपनी चीजो के लिए जगह तलाशने की कोशिश ’ कार्लिन ने 1986 के अपने एक स्केच ’द स्टफ’ (सामान) में दिखाया है कि कैसे हम बहुत सा सामान भौतिक उपयोग की वस्तुऐ इकट्ठा करते हैं ओैर ऐसा करते हुए हम उन वस्तुओ को रखने की जगह को लेकर बेचैन रहते हैं । यहाँ तक कि हमारा घर , घर न होकर सामान रखने की जगह है। एक रखा नही कि तब तक जाकर हम घर भरने के लिए कुछ और सामान लेकर आ जाते हैं । जो चीज ’कार्लिन’ हमें इस स्केच में नही बतलाते हैं, वह यह है कि यह घर में नही अट सका सारा सामान अनुपयोगी फेकें रद्दी कूड़े में बदलता है। कूड़ा ऐसी चीज है जो आधुनिक इन्सानी जिन्दगी की पहचान है, पर उसे ऐसा ही माना जाता है। कूड़ा पूंजीवाद की एक अंधेरी गुफा है उसका सह उत्पाद है। हम इस सच्चाई को भुलाते हैं, औैर ऐसा दिखाते हैं कि मानो इसका अस्तित्व ही नही। 

सत्ता में आने के तुरन्त बाद ’कारपोरेट लूट’ के हिमायती प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश में ’कथित स्वच्छता अभियान’’ की शुरूआत किये मानो कूड़ा और गन्दगी फैलाना हम भारतीयों की फितरत है। अकेले दिल्ली महानगर में लाखो टन कूड़ा प्रतिदिन निकलता है। आप कल्पना करें दिल्ली के जन्तर मन्तर इलाके लक्ष्मीनगर से गाजीपुर सब्जीमण्डी तक का इलाका जो देश के सबसे घरे बसे इलाके में से एक है उस इलाके में ही करीब 15 से 20 लाख लोग रहते हैं। अगर इसी क्षेत्र में प्रति व्यक्ति 1 ग्राम के हिसाब से कूड़ा उत्सर्जन करें तो कुल कितना कूड़ा अकेले इस इलाके में ही निकलता होगा इसका पूर्ण निस्तारण लगभग असंभव है। 

सुबह-सुबह नंगे पैर फटे पुराने कपड़े पहने छोटे-छोटे बच्चो को कूड़े में कुछ खोजते हुए देखना हमारे लिए स्वाभाविक चीज बन गयी है। देश भर में लाखो छोटे बच्चे तथा स्त्री पुरूष कूड़ो के ढेंर से रद्दी प्लास्टिक कागज के गत्ते तथा धातुओ के टुकड़े तलाशते हैं , इनको कबाड़ खरीदने वाले व्यापारी बहुत सस्ते में खरीद लेते हैं जो बाद में पुर्न प्रयोग (रिसाईकिलिंग) करके नये उत्पाद में बदल दिये जाते हैं, उन बच्चो तथा स्त्री पुरूष के भविष्य के बारे में शायद ही किसी को चिन्ता करने का समय हो। एक सर्वेक्षण के अनुसार कूड़े के गन्दगी से ज्यादातर ऐसे लोग कम उम्र में ही गम्भीर रोगो से ग्रस्त हो जाते हैं, करीब 60 प्रतिशत की मौत कम उम्र में ही हो जाती हे। कुछ लोगो को इन पर ’’गर्व’’ भी हो सकता है, कि ये बच्चे कूड़े से उपयोगी वस्तु खोजकर एक ओर तो हमारा कूड़ा कम कर रहे हैं तो दूसरी ओर देश की जी0डी0पी बढ़ाने में महत्वपूर्ण योगदान दे रहे है। शायद यह भी ’’ गर्व का विषय’’ हो कि सैकड़ो एकड़ क्षेत्र में फैले कूड़ा डम्पिंग स्थल यानी कूड़े के उपर ही यह बच्चे और उनके परिवार भयंकर गन्दगी और दुर्गन्ध में सूअर तथा अन्य गन्दगी खाने वाले जानवरो के साथ रहते भी हैं। दिल्ली के गाजीपुर सब्जीमण्डी इलाके में कूड़े के डम्पिंग स्थल पर इतने ऊॅचे ढ़ेर बन गये हैं कि वे दूर से ही पहाड़ जैसे दिखते हैं, सरकारी अधिकारी का कहना है कि इन्हे पर्यटक स्थल में विकसित किया जायेगा। फिलहाल इस विशाल थोक मण्डी में इसकी बदबू से खड़े रहना भी मुश्किल रहता है। कमोवेश यही स्थिति हर नगरो तथा महानगरो की है। इन सब चीजो से शायद यह भ्रम पैदा होता हो कि भारतीय उपभोक्ता वर्ग सबसे ज्यादा कूड़ा उत्सर्जन करता है, पर हमारी यह जानकारी अधूरी है, आबादी में दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा देश होने के बावजूद अभी भी इस मामले में विकसित देशो से काफी पीछे है।